हाईकोर्ट से विकास दुबे की पत्नी ऋचा दुबे को सशर्त अग्रिम जमानत

कानपुर : 2 जुलाई 2020 की भयानक रात तो आपके याद ही होगी। जब कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र बिकरू में दबिश करने गई पुलिस टीम को विकास दुबे और उसके गुर्गों ने मौत के घाट उतार दिया था। बिकास दुबे और उसके गुर्गों ने सीओ सहित 8 पुलिस कर्मियों की हत्या कर दी थी। बिकरू कांड एक बार फिर सुर्खियों में हैं इस बार सुर्खियां विकास दुबे की पत्नी ऋचा दुबे को लेकर हैं। बिकास दुबे की पत्नी ऋचा दुबे को हाइकोर्ट से राहत मिली है। विकास दुबे की पत्नी ऋचा दुबे पर फर्जी सिम मामले का केस दर्ज है। ऋचा दुबे की फर्जी सिम मामले पर सशर्त अंतिरम अग्रिम जमानत मंजूर कर ली गई है।

कोर्ट ने कहा यदि याचिकाकर्ता को गिरफ्तार किया जाए तो उसे 50,000 के निजी मुचलके व दो जमानत पर रिहा करने का प्रावधान है। एसआइटी की रिपोर्ट के अनुसार ऋचा दुबे पर फर्जी आधार कार्ड से सिम खरीदने की की बात सामने आयी थी जिसके चलते ऋचा दुबे के खिलाफ चौबेपुर थाना में एफआइआर दर्ज की गई थी। फर्जी सिम मामले में चार्जशीट दाखिल होने के बाद ऋचा दुबे ने अर्जी दाखिल करते हुए अग्रिम जमानत की मांग की थी। इस मामले पर सरकारी वकील का कहना है कि एडवांस नोटिस होने के बाद भी इस मामले मे कोर्ट की तरफ से अभी तक उन्हे कोई निर्देश नही मिला है। सरकारी वकील ने जवाब दाखिल करने के लिए कोर्ट से समय मांगा है।

विकास दुबे की पत्नी ऋचा दुबे के वकील का कहना था कि यदि समय दिया गया तो पुलिस याची को गिरफ्तार कर लेगी क्योंकि हाइकेर्ट में शीतकालीन अवकाश होने वाला है। ऋचा दुबे के वकील का कहना है कि अगर पुलिस याचि को गिरफ्तार नही करती है तो याचि को गिरफ्तारी के डर से बाहर रहना पड़ेगा। मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने ऋचा दुबे की अग्रिम जमानत को सशर्त स्वीकर कर लिया है मामले की सुनवाई के लिए कोर्ट ने ऋचा दुबे को 27 जनवरी को कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया है। कोर्ट ने शर्त रखी कि पूछताछ के लिए ऋचा दुबे को संबंधित पुलिस अफसर के सामने हाजिर रहना होगा। ऋचा दुबे देश के बाहर नही जा सकेंगी यदि ऋचा के पास पासपोर्ट है तो उन्हे पासपोर्ट एएसपी के पास जमा कराना होगा।