देश में उचित ढंग से नही हो रहा संविधान का पालन-मायावती

लखनऊ : देश में आज के दिन 26 नवंबर को भारतीय़ संविधान दिवस के रूप में मनाया जा रहा है।भारतीय जनता पार्टी ने संविधान दिवस के अवसर पर बड़ा आयोजन भी किया है,जबकि बहुजन समाजवादी पार्टी के साथ-साथ अन्य विपक्षी दल इसका जमकर विरोध भी कर रहे हैं।बसपा सुप्रीमो मायावती ने तो देश में संविधान का ठीक से पालन ना होने के विरोध में संविधान दिवस कार्यक्रम में शामिल ना होने का फैसला किया है।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार और राज्य की योगी सरकार द्वारा संविधान का उचित पालन नही किया जा रहा है।ऐसी सरकारों को संविधान दिवस मनाने का कोई हक नही है,बल्कि ऐसी सरकारों को संविधान दिवस के दिन पर जनता से मॉफी मांगनी चाहिए और अपनी गलती को जल्द सुधराना चाहिए।मायावती ने कहा कि परम पूजनीय डॉक्टर भीमराव अम्बेडकर जी ने भारतीय संविधान में देश के कमजोर एवं उपेक्षित वर्गों को विशेषकर शिक्षा एवं सरकारी नौकरियों आदि में आरक्षण एवं अन्य जरूरी सुविधाओं का प्रावधान किया है,जिसका पूरा लाभ इन वर्गो को नही मिल पा रहा है।जिसके लेकर इन वर्गो के लोगो के साथ हमारी पार्टी बहुत ज्यादा दुखी है।

मायावती ने कहा कि आज भी ज्यादातर विङागो में एससी,एसटी और ओबीसी को कोटा अधूरा पड़ा है।गरीब,वंचित और शोषित आज भी अपने हक के लिए सडको पर लगातरा प्रदर्शन कर रहे हैं।मायावते ने कहा कि इन वर्गो के लिए प्राइवेट सेक्टर में आरक्षण की कोई व्यवस्था नही है।केंद्र और राज्य सरकार प्राइवेट सेक्टर में आरक्षण को लेकर तैयार नही है।ऐसी सरकारो को संविधान दिवस मनाने का कोई भी नैतिक अधिकार नही है बल्कि ऐसी सरकार को तो आज इस मौके पर देश की जनता से मॉफी मागनी चाहिए।