अखिलेश यादव के खिलाफ बीजेपी से एसपी सिंह बघेल ने ठोकी ताल,करहल से भरा पर्चा

 लखनऊ : उत्तर प्रदेश की मैनपुरी जिले की करहल विधानसभा सीट पर भारतीय जनता पार्टी का प्रत्याशी का सस्पेंस समाप्त हो गया है। भारतीय जनता पार्टी ने करहल विधानसभा सीट से एसपी सिंह बघेल को अपना प्रत्याशा घोषित किया है।केन्द्र सरकार में मंत्री एसपी सिंह बघेल ने सोमवार को मैनपुरी कलक्ट्रेट में करहल से भाजपा प्रत्याशी के रूप में अपना नामांकन पत्र दाखिल कर दिया है। इससे पहले एसपी सिंह बघेल प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार में कैबिनेट मंत्री थे।

एसपी सिंह बघेल ने योगी आदित्यनाथ की कैबिनेट से इस्तीफा देकर 2019 में लोकसभा का चुनाव लड़ा और जीत दर्ज कर संसद पहुंचे। एसपी सिंह बघेल ने करहल से अखिलेश यादव के खिलाफ भाजपा प्रत्याशी के रूप में अपना नामांकन पत्र दाखिल कर दिया। इससे पहले कयास लगाए जा रहे थे कि भाजपा अपर्णा बिष्ट यादव को मैदान में उतारेगी।

भारतीय जनता पार्टी करहल विधानसभा सीट से समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुक्यमंत्री अखिलेश यादव को टक्कर देने के लिए सपा संकक्षक संरक्षक मुलायम सिहं यादव के राजनीतिक शिष्य रहे केंद्रीय कानून एवं न्याय मंत्री प्रो. एसपी सिंह बघेल को चुनाव मैदान में उतारा है।बघेल ने सोमवार को अचानक मैनपुरी पहुंचकर नामांकन पत्र भी दाखिल कर दिया।

2014 में बहुजन समाजपार्टी को छोड़ भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए एसपी बघेल ने प्रो. रामगोपाल यादव के बेटे अक्षय यादव के खिलाफ चुनाव लड़े, इस चुनाव में दूसरे नंबर पर रहे।2017 में एसपी बघेल टूण्डला से विधायक बने और योगी सरकार में मंत्री बने। 2019 में आगरा सीट से सांसद बने और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कैबिनेट मंत्रिमंजल के विस्तार में 2021 में इन्हें कानून एवं न्याय राज्यमंत्री बनाया गया है। बघेल मूल रूप से औरैया के रहने वाले हैं।