जो हिम्मत मोदी नहीं कर पाए वो कारनामा राहुल गांधी ने कर डाला, स्वीकार किया फेस-टू-फेस डिबेट का चैलेन्ज !

जिस पहलू का सामना करने से तमाम नेता डरते हैं यहां तक कि खुद पीएम मोदी पीछे हट जाते हैं और सामने आने से परहेज करते हैं ! अब उन्ही हालात, उन्ही सवालात और तो और उन्ही स्थितियों पर फेस-टू-फेस डिबेट करने का ऑफर राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने स्वीकार कर लिया है और पीएम मोदी(PM Modi) को खुला चैलेन्ज दे दिया है कि हिम्मत है तो आइए खुले मंच पर बहस करते हैं और खुले मंच से सवाल जवाब का दौर शुरू करते हैं ! पीएम मोदी अब तक सेलेक्टिव चैनल्स और सेलेक्टिव एंकर्स को ही इंटरव्यू देते हैं लेकिन राहुल गांधी ने उन्हे बुरा फंसा दिया है ! 2024 के लोकसभा चुनावों(Lok Sabha elections) को लेकर हाल ही में सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के पूर्व जजों ने पीएम मोदी और राहुल गांधी दोनों को, न्योता दिया था कि वे फेस-टू-फेस बहस करें ! इसमें सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टि मदन लोकुर से लेकर एपी शाह शामिल थे ! वहीं राहुल गांधी ने पूर्व जजों का ये न्योता स्वीकार कर लिया है ! राहुल ने कहा कि वो पीएम मोदी से बहस करने के लिए तैयार हैं ! कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री को मैं जानता हूं कि वो मुझसे डिबेट नहीं करेंगे ! बता दें कि राहुल गांधी लखनऊ में संविधान सम्मेलन में बोल रहे थे ! 
राहुल गांधी ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से 100 प्रतिशत किसी भी मुद्दे पर डिबेट के लिए तैयार हूं ! राहुल ने ये भी कहा कि अगर वो मुझसे बहस नहीं कर सकते तो पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे(Mallikarjun Kharge)जी से भी बहस कर सकते हैं ! यूपी के लखनऊ में जब एक कार्यक्रम के दौरान कांग्रेस नेता राहुल गांधी से इस डिबेट वाले न्योते के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मैं 100% किसी से भी डिबेट करने को तैयार हूं ! राहुल गांधी ने अपने भाषण के दौरान भारतीय संविधान की एक प्रति अपने हाथ में रखी थी ! इस दौरान उन्होंने कहा कि देश में पिछड़े, दलित, आदिवासी और अल्पसंख्यकों की संख्या 90% तक है लेकिन उनके लिए हर तरफ रास्ते बंद किया जा रहे हैं !
 कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि संविधान ने इन सभी लोगों को आरक्षण का लाभ दिया है जो की लगातार खत्म किया जा रहा है ! इसके अलावा राहुल ने आरोप लगाया कि संस्थाओं का निजीकरण करना ही आरक्षण को खत्म करने का एक रास्ता है जिसे सरकार अपना रही है ! सरकारी संस्थाएं निजी कंपनियों के हाथों में सौंपी जा रही हैं ! राहुल गांधी ने कहा कि जब सरकारी संस्थाएं ही नहीं रहेंगी तो आरक्षण देना ही नहीं पड़ेगा ! राहुल गांधी ने अपने भाषण के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Prime Minister Narendra Modi) पर करारा हमला बोला और कहा कि मोदी जी प्रधानमंत्री नहीं है वो राजा है, उन्हें संसद से कुछ नहीं लेना-देना है और ना ही मंत्रिमंडल और संविधान से राहुल ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 21वीं सदी के राजा हैं, लेकिन असल में उनकी पावर कहीं और है ! राहुल ने कहा कि उनके पीछे दो-तीन फाइनेंसर हैं और वही सब कुछ चला रहे हैं ! वायनाड से सांसद ने कहा कि इन सभी का मकसद केवल पिछड़े, दलित और अल्पसंख्यकों का रास्ता बंद करना है ! 
 

3 thoughts on “जो हिम्मत मोदी नहीं कर पाए वो कारनामा राहुल गांधी ने कर डाला, स्वीकार किया फेस-टू-फेस डिबेट का चैलेन्ज !

  1. Hello i think that i saw you visited my weblog so i came to Return the favore Im trying to find things to improve my web siteI suppose its ok to use some of your ideas

  2. I simply could not go away your web site prior to suggesting that I really enjoyed the standard info a person supply on your guests Is going to be back incessantly to investigate crosscheck new posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *